दिवाली पर निबन्ध | Essay on Diwali in Hindi

Essay on Diwali in Hindi in 250 words / दिवाली पर निबंध (दीपावली) – दोस्तों भारत में दिवाली का पर्व आने वाला है . इस साल Diwali date 2021 – Thursday , 4 November को है. हमें Diwali festival का काफी समय पहले से इंतज़ार रहता है.

यह उत्सव / festival हम लोग बहुत ही धूम धाम से मानते है. दिवाली के 2 दिन पहले धनतेरस और 2 दिन बाद भाई दूज का त्यौहार होता है. इसलिए यह त्यौहार 5 दिन का लम्बा उत्सव (Diwali long holiday festival) होता है.

लोग leaves लेकर अपने मातापिता और अपने पैत्रक निवास जाते है और वह इसको मनाते है. इन्ही 5 दिनों में सबसे ज्यादा लोग shopping यानि खरीददारी करते है, इसलिए business के लिए भी बहुत important है.

दिवाली का अर्थ और महत्त्व – Short Essay on Diwali in Hindi 

Diwali Story/ दीपावली की कहानी : आप रामायण की कहानी (Ramayana ki Kahani) जानते ही होंगे. रामायण में भगवान राम (Lord Rama) की पत्नी सीता को लंका का राजा राक्षस रावन उठा ले गया था. राक्षस राज रावन सीता से विवाह करना चाहता था. जिसके कारण उससे सीता को लंका में बंदी बनाकर रखा था.

उसके बाद भगवान श्री राम अपने भाई लक्षमण के साथ सीता की ख़ोज में निकले. और उनको रास्ते में वानरों और रीछों का सहयोग प्राप्त हुवा और उन्होंने वानरों की सेना बनाकर रावन का वध किया.

रावन का वध जिस दिन हुवा था उस दिन को भारत में विजयादशमी या Dussehra के नाम से मानते है. रावन को मरने के बाद श्री राम जी को अपनी नगरी अयोध्या आने में २० दिन लगे थे. जिस दिन वो अयोध्या आये उस दिन को भारत में दीपावली या Diwali के पर्व के रूप में धूम धाम से मानते है.

दिवाली का त्यौहार भारत के साथ साथ नेपाल, श्री लनक्स, म्यांमार, मॉरिशस, गुयाना, मलेशिया, सिंगापूर, फ़िजी, पाकिस्तान में बहुत ही व्यापक रूप में मनाया जाता है.

अन्य देशों में दीपावली का प्रचलन / Diwali Festival Outside India

भारत देश त्योहारों का देश है परंतु दीपावली (Deepawali) खास स्थान रखता है. दीपावली भारत की परंपरा और कल्चर दिखाता है. दीपावली अयोध्या के राजा भगवान राम के 14 वर्ष वनवास पूरा करने के बाद अयोध्या में कदम रखने की खुशी पर मनाया जाता है. पर यह त्यौहार भारत में नहीं भारत से बाहर भी कई देशों में भी मनाने जाने लगा है .

भारत के कोने कोने पर भारतीय बसे हुए हैं. वहां पर दीपावली धीरे-धीरे कई देशों तक पहुंच गया है जिसे वहां के लोग अपने अपने तरीके से मनाने लगे हैं.

भारत के अलावा अन्य बाहरी देशों में भी दीपावली के दिन जगह जगह  मेले और जश्न का माहौल होता है. यहां लोग दीपावली की तैयारी पहले से ही करने लगते हैं. यह बड़े ही गर्व की बात है कि भारत देश की पहचान रखने वाला त्योहार दीपावली अब हर देश में अपनी जगह बनाने लगा है और अपनी छाप छोड़ रहा है.

दीपावली के त्यौहार में कई देश तो सरकारी अवकाश भी रखने लगे हैं. जैसे कि श्रीलंका में यूनान, मारीशस, मयांमार, युनान,  त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम, मलेशिया सिंगापुर  , फिजी , पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, नीदरलैंड, ब्रिटेन संयुक्त अरब अमीरात संयुक्त राज्य अमेरिका  आदि दिवाली मनाने वाले देशों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही हैं.

हमारे देश का प्रमुख त्यौहार दीपावली कई देशों की संस्कृति का हिस्सा बनते जा रहा है. 2003 में दीपावली को व्हाइट हाउस में पहली बार मनाया गया. वहां के राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने दीपावली व्हाइट हाउस में मनाया .दीपावली सेलिब्रेट करने वाले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा पहले राष्ट्रपति हैं.

 विदेशों में दीपावली का त्यौहार कैसे मनाते हैं?

अन्य देशों की तरह ब्रिटेन में भी दीपावली बहुत ही धूमधाम और उत्साह से मनाया जाने वाला त्यौहार है. ब्रिटेन में कई ऐसे हिंदू मंदिर है. जहां दीपावली बहुत खास तरीके से मनाया जाता है. ब्रिटेन के पुर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और उनकी पत्नी ने दिवाली ब्रिटेन के स्वामीनारायण मंदिर में हजारों भक्तों के साथ मनाई थी. 2009 से लेकर आज तक हर साल प्रधानमंत्री निवास में  दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है.

दुनिया में अगर दीपावली त्योहार को भारत देश के अलावा बहुत ही जश्न और धूमधाम से मनाया जाता है. तो वह ग्रेट ब्रिटेन का लिसेस्टर शहर यहां हमारे देश की तरह ही लोग रात को दिए जलाते हैं. पटाखे फोड़ते हैं और मिठाइयां बांटते हैं यहां के लोग रोड पर निकलकर पटाखे फोड़ते और सेलिब्रेट करते हैं.

न्यूजीलैंड में भी प्रवासी भारतीयों को 2003 के बाद दीपावली मनाने की आधिकारिक मान्यता दे दी गई है.

फिजी में भी भारत की तरह ही दीपावली बड़े ही शान के साथ मनाया जाता है. इस दिन यहां सरकारी छुट्टी होती है. फिजी में भी हिंदुओं की तरह ही पूजा-पाठ आतिशबाजी और मिठाइयों का लेन-देन किया जाता है.

अफ्रीकी देश मॉरीशस में हिंदू बहुसंख्यक है इसलिए यहां दीपावली के दिन सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की जाती है. इस दिन यहां दीपावली पूरे हिंदू रीति रिवाज से मनाया जाता है.

कनाडा दीपावली के त्यौहार को मनाने से अछूता नहीं है. यह बहुत ही रोचक है कि कनाडा की पापुलेशन 3 करोड़ 66 लाख है जहां 10 लाख से ज्यादा भारतीय रहते हैं और इनमें पांच लाख से ज्यादा हिंदू है कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी भारतीयों के इस त्यौहार को अपना लिया है.

मलेशिया में दीपावली मनाने का अपना ही अलग ढंग है. मलेशिया में ग्रीन दीपावली या फिर हरि दीपावली के रूप में मनाया जाता है. दीपों और रौशनी का यह त्यौहार यहां पूरे देश में धूमधाम और उत्साह के साथ मनाया जाता है और यहां पर इको फ्रेंडली पटाखे जलाए जाते हैं .

श्रीलंका में दीपावली को पूरे 5 दिनों तक पूरे धार्मिक रीति-रिवाज के साथ मनाया जाता है. सिंगापुर में दीपावली के दिन पब्लिक हॉलिडे होता है और इस दिन यहां के लोग घरों को रंग-बिरंगे फूलों और लाइटों से सजाते हैं.

हमारे देश में दीपावली का त्यौहार जगमगाते हुए दीपक प्रकाश स्वादिष्ट मिठाइयों का आनंद लेकर मनाते हैं.

यह त्यौहार भारत और देश के बाहर भी वर्षों पहले से मनाया जा रहा है दीपावली मनाने की परंपरा कब की है यह नहीं कहा जा सकता क्योंकि दीपावली मनाने की परंपरा हमारे इतिहास से भी पुरानी है

Dhanteras 2021 Date / धनतेरस क्या है & कब है ?

Essay on Diwali in Hindi : Wikipedia

दिवाली के बाद दुसरे दिन भाई दूज (Bhai Dooj 2021) मनाया जाता है. धनतेरस से लेकर भाईदूज तक यह त्यौहार भारत में 5 दिन का उत्सव होता है.

Conclusion:

Dear Friends!

आपको  Essay on Diwali in Hindi  की यह जानकारी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताइए.  अगर इसमें कही सुधर की जरूरत होतो भी हमें बताये. और इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर आदि पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को भेजिए.. धन्यवाद

हमारे इस वेबसाइट (Hindi-Quotes.in) के readers ko Diwali 2020 best wishes / Happy Dipawali Quotes & status 2020 to All friends & family.

आप सभी को दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें. Wishing you Healthy, wealthy & pollution free festival of Diwali 2020.

Leave a Comment

%d bloggers like this: